6.5 C
London
Tuesday, March 5, 2024

भोकाल में काट दिया,( CHATGPT ) लेकिन अब जगह-जगह बैन क्यों लग रहा है ?

- Advertisement -
- Advertisement -

CHATGPT क्या होता है और क्या-क्या कमाल भी कर सकता है, इसके बारे में तोडा बहुत शायद आपको पता भी होगा. लेकिन पिछले 15 दिन से कुछ अजीब भी हो रहा है. कहां तो इसको गूगल का रिप्लेसमेंट भी बताया जा रहा था, लेकिन अब इसके जहां-तहां से बैन होने की खबरें भी आ रही हैं. और अमेरिका फ्रांस में इस प्लेटफॉर्म को बैन भी किया जा रहा है. आखिर ऐसा क्या हो गया कि जिसको गेम चेंजर माना भी माना जाता है , आइये अब हम विस्तार से समझते हैं.

भोकाल में काट दिया,( CHATGPT ) लेकिन अब जगह-जगह बैन क्यों लग रहा है?

CHATGPT क्या होता है और क्या-क्या कमाल भी कर सकता है, इसके बारे में तोडा बहुत शायद आपको पता भी होगा. लेकिन पिछले 15 दिन से कुछ अजीब भी हो रहा है. कहां तो इसको गूगल का रिप्लेसमेंट भी बताया जा रहा था, लेकिन अब इसके जहां-तहां से बैन होने की खबरें भी आ रही हैं. और अमेरिका फ्रांस में इस प्लेटफॉर्म को बैन भी किया जा रहा है. आखिर ऐसा क्या हो गया कि जिसको गेम चेंजर माना भी माना जाता है , आइये अब हम विस्तार से समझते हैं.

CHATGPT एक मशीन लर्निंग और AI बेस्ड सॉफ्टवेयर होता है. इसको opened ने डेवलप किया होता है. वैसे अब इसकी साझेदारी माइक्रोसॉफ्ट से भी होती है. और ये अपना काम भी करने लगता है. लॉन्च होने के कुछ दिनों में ही 10 लाख से ज्यादा यूजर्स ने इसका इस्तेमाल भी किया. पहले तो फ्री था, लेकिन अब इसका प्रीमियम प्लान भी उपलब्ध होता है. कीमत 3400 रुपये प्रति महीना होता है . हालांकि, इसको पब्लिक ने कुछ ज्यादा पसंद नहीं किया है . वैसे मुफ्त वाले के हाल भी कुछ अच्छे नहीं होते हैं. कई लोगों ने बताया कि काम नहीं होता है . ये तो बात हुई लेनदेन वाली. मतलब, जिसका जमे वो नोट खर्च भी करे. अब बात बैन की आती है .

New York के स्कूल

दुनिया-जहान में सबसे पहले इन्होंने ही इस चैट पर बॉट को बैन किया

यहां के स्कूल डिपार्टमेंट को डर भी था कि कहीं बच्चे अपना होमवर्क इससे ना करवा लें. गणित के सवाल और निबंध में लिखे जाने का भी डर था

Seattle के भी कई सारे पब्लिक स्कूल ने CHATGPT को बैन भी किया

बेंगलुरू कॉलेज ने बैन किया

देश के IT हब के कई सारे कॉलेजों में CHATGPT को बैन कर दिया है

वजह तकरीबन वही, स्टूडेंटस अपने असाइनमेंट से काम करते है

RV University और Dayananda sagar Universityने CHATGPT के साथgithub Copilot औरblacKbox जैसे AI टूल्स के इस्तेमाल को भी मना किया है

IIT बेंगलुरूमें तो इसे इस्तेमाल करने के लिए बाकायदा एक कमेटी बनाई होती है

असाइनमेंट के नेचर भी बदलने की बात होती है और ऐसे टूल्स इस्तेमाल करने पर कॉलेज से निकल जाते है

फ्रांस की यूनिवर्सिटी भी नक्शे-कदम पर

फ्रांस के कई सारे टॉप कॉलेज और विश्वविद्यालयों ने CHATGPT के लिए अपने दरवाजे भी बंद कर दिए

अगर किसी वजह से इस्तेमाल करना भी होता है तो सिर्फ कॉलेज के लीडर्स की देख रेख करते है

मशीन लर्निंग कॉन्फ्रेंस ने भी बैन किया

ये तो हद हो गई क्योंकि International Conference on Machine Learning (ICML) ने भी CHATGPT को बैन कर दिया है

ICML मतलब मशीन लर्निंग का सबसे बड़ा नाम भी होता है . इन्होंने अपनी कॉन्फ्रेंस में भाग लेने वालों इस टूल से अगर लिखकर भी लाए तो नहीं चलेगा

अब ऐसा क्यों हो रहा है, उसके कई सारे कारण हो सकते हैं. लेकिन किसी भी बात को लिखते समय मानवीय टच और मौलिकता का अभाव सबसे बड़ी वजह नजर आती है. वैसे CHATGPT टेक एक्सपर्ट Marques Brownlee में वीडियो में होता है ,

ऑनलाइन कॉन्टेन्ट बनाते समय कुछ बुनियादी बातों की जरूरत भी होती है. जैसे एक क्रिएटिव प्रोसेस मतलब रचनात्मकता होती है . इसके लिए पहले एक आइडिया भी चाहिए. फिर उसको डेवलप करने की प्रोसेस होती है . पब्लिश करने के बाद पढ़ने और देखने वालों से कम्यूनिकेशन भी होती है . वो कोई चैट बॉट कैसे लाएगा. इसके अलावा मशीन का कोई सीन ही नहीं होता है. AI टूल का मतलब होता है , ये काम का हीरा निकालती मशीन. Marques ने इसके गलती करने की संभावना और क्रेडिट देने पर भी बात की. और जो डेटा के अंदर से मिलता है. , उसका ध्यान भी रखते हैं . आईफोन के लेटेस्ट मॉडल से जुड़ी कई जानकारी CHATGPT ने गलत बताई हैं.

वैसे ऐसा भी नहीं होता है. लेकिन उनकी एक लाइन बहुत कुछ कहती है. ‘ये एक टूल भी होता है कोई Creator नहीं.’

आगे क्या होगा, वो शायद CHATGPT बता सके. अगर आपके पास चल रहा है . ये भी पूछना कि बैन भी क्यों हो रहे हो?

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here