Thursday, June 13, 2024

Top 5 This Week

Related Posts

चंद महिनों में इस पौधें की खेती से हो सकते हैं मालामाल, 1 बीघे से 5 क्विंटल फसल का उत्पादन होता है: Gulkhaira Farming

Gulkhaira Farming आजकल खेती को अच्छी आमदनी और मुनाफे का सौदा बनाने के लिए किसान भाई पारंपरिक फसलों को छोड़ नए फसलों की खेती कर रहे है। इसके साथ ही वे नई तकनिक का सहारा भी ले रहे हैं जिससे उन्हें अच्छी कमाई हो सके। यदि आप भी खेती में अपनी किस्मत आजमाना चाहते हैं तो गुलखैरा की खेती (Gulkhaira Farming) आपकी किस्मत को चमका सकती है।

जी हाँ, यह एक ऐसी फसल है जिसकी तना, बीज, पत्ते आदि सभी चीजें आसानी से बिक जाती है। साथ ही इसका इस्तेमाल औषधि बनाने के लिए भी किया जाता है। अधिक महत्व होने के कारण इसकी डिमांड भी बनी रहती है जिससे आप बेहतर मुनाफा कमा सकते हैं। तो आइए जानते हैं इसकी खेती के बारें में विस्तार से-

गुलखैरा की खेती कैसे करें (How to Cultivate Gulkhaira) ?

इसकी खेती को आप कम लागत में करके अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं। चूंकि, इसके फूल से औषधी का निर्माण किया जाता है इसलिए मार्केट में इसका मूल्य भी काफी अधिक है। इसकी खेती के लिए अलग से भूमि की जरुरत नहीं होती है इसलिए इसकी खेती को आप किसी भी  फसल के साथ कर सकते हैं Gulkhaira Farming।

गुलखैरा की खेती (Gulkhaira Farming) करने के लिए प्रति हेक्टेयर 150 किलोग्राम बीज की जरुरत होती है। बाजार में इसके बीज आसानी से मिल जाएंगे। उसके बाद नवम्बर माह में बीज की बुवाई की जाती है जो अप्रैल-मई तक तैयार हो जाती है। जब इसका पौधा तैयार हो जाता है तो ये स्वयं सूखकर ही गिरने लगता है Gulkhaira Farming।

यह भी पढ़ें :- पारम्परिक खेती छोड़ शुरु किया शरीफा की खेती, 10 हजार लागत खर्च करके 10 लाख कमा रहे हैं

एक बार इसकी बुवाई करने के बाद किसान भाई को दोबारा से इसके लिए बीज खरीदने की जरुरत नहीं पड़ती है, क्योंकि पिछ्ली फसल से तैयार बीज से ही  बुवाईकी जा सकती है। इस फसल को काटने की जरुरत नहीं होती है क्योंकि प्रतिवर्ष तैयार होने के बाद यह खुद ही सूखकर गिर जाते हैं, जिससे आप हर साल के लिए बीज तैयार कर सकते हैं। इस प्रकार आप कम लागत में इसकी खेती करके बेहतर मुनाफा कमा सकते हैं Gulkhaira Farming।

Earn lakhs of rupees from the cultivation of medicinal plant Gulkhera


कहां होती है गुलखैरा की खेती?

गुलखैरा की सबसे अधिक खेती अफगानिस्तान और पाकिस्तान में की जाती है, लेकिन अब हमारे भारत देश में भी किसान इसकी खेती कर्ना शुरु कर दिए हैं। उत्तरप्रदेश राज्य के कई जिलों जैसे कन्नौज, हरदोई जैसे जिलों के किसानों में जागरुकता फैली है और वे बड़े पैमाने पर इसकी खेती कर रहे हैं। इससे उन्हें प्रतिवर्ष अच्छी कमाई भी हो जाती है।

गुलखैरा का प्रयोग (Uses of Gulkhaira) –

औषधीय गुण पाए जाने के कारण इससे कई प्रकार की दवाओं का तैयार किया जाता है जिसका  इस्तेमालबुखार और खांसी जैसी समस्याओं में होता है। इसके अलावा इसके फूल से बनी दवाओं का सबसे अधिक प्रयोग शीघ्रपतन और मर्दाना ताकत की कमी जैसे रोगों में किया जाता है। गुलखैरा के बीज, पत्ते, तना आदि सभी चीजों से कई प्रकार की दवाएं बनाई जाती हैं।

यह भी पढ़ें :- जलकुंभी की समस्या का निकाला हल, असम की इन लङकियों ने उससे बना डाला योगा मैट

गुलखैरा की खेती से कमा सकते हैं अच्छा मुनाफा

यदि किसान भाई 1 बीघा में इसकी खेती (Gulkhaira Farming) करते हैं, तो उन्हें लगभग 5 क्विंटल का उत्पादन प्राप्त कर सकते हैं। इस हिसाब के अनुसार, प्रतिवर्ष 50-60 हजार रुपये की कमाई की जा सकती है। वहीं यदि इसके मार्केट प्राइस की बात करें तो एक क्विंटल गुलखैरा के फसल की कीमत 10 हजार रुपये है।

औषधीय पौधें की खेती करके किसान भाई काफी बेहतर कमाई कर सकते हैं। वहीं यदि देश में औषधीय पौधों (Medicinal Plant) की खेती होने लगे तो अन्ग्रेजी दवाओं से काफी हद तक छुटकारा मिल सकता है। इसके अलावा इसकी खेती में अधिक लागत भी नहीं लगती है और कमाई भी अच्छा होता है Gulkhaira Farming।

Read more….सहजन की खेती से घर बैठे करें लाखों की कमाई, कम लागत और देखभाल में 10 साल तक फायदा होगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Popular Articles