9.6 C
London
Monday, April 15, 2024

Kushinagar News: कुशीनगर में जेट्रोफा का फल खाने से 24 बच्चे बीमार हुए, मचा हड़कंप

- Advertisement -
- Advertisement -

कुशीनगर में जेट्रोफा का फल खाने से:महुअवा में संचालित लोटस पब्लिक स्कूल में मध्याह्न के दौरान जेट्रोफा का फल खाने से 24 बच्चों की हालत बिगड़ गई। उन्हें पेट दर्द, उल्टी और चक्कर भी आने लगा। तो आनन-फानन सभी बच्चों को जिला अस्पताल में लाया गया, जहां डॉक्टरों की देखरेख में उनका इलाज चल रहा है।ये घटना की जानकारी होने पर डीएम ने जिला अस्पताल पहुंचकर बच्चों का हाल जाना और जांच कराकर की कार्रवाई की बात कही है ।

तुर्कपट्टी और सूर्य मंदिर के निकट लोटस पब्लिक स्कूल संचालित में होता है। इस विद्यालय में सौ से अधिक बच्चे पढ़ते हैं। शनिवार को दोपहर में नाश्ता (मध्याह्न) के लिए बच्चों को छुट्टी दी गई थी। तो ये बताया जा रहा है कि विद्यालय के पीछे से एक बच्चा जेट्रोफा का फल लाया और अन्य बच्चों को दिखाकर खाने लगा। तो उसे देखकर अन्य बच्चे भी जेट्रोफा का फल तोड़ लाए और खाने लगे। कुछ ही देर बाद उन्हें पेट में दर्द,और उल्टी के साथ चक्कर भी आने लगा। यह देख अन्य बच्चे शोर मचाने लगे। तो वहां अफरा तफरी मच गई।

कुशीनगर में जेट्रोफा का फल खाने से विद्यालय के लोग कुछ समझ पाते, तब तक काफी संख्या में ग्रामीण एकत्र हो गए। और बीमार 24 बच्चों को विद्यालय परिवार और ग्रामीणों की मदद से जिला अस्पताल में लाया गया, जहां पर उनका इलाज शुरू हुआ। फिर उसके बाद विद्यालय के लोग बच्चों को जिला अस्पताल में छोड़कर भाग निकले। विद्यालय के प्रबंधक और प्रधानाचार्य से संपर्क करने का प्रयास किया गया, लेकिन वे कोई घटनास्थल पर मौजूद नहीं मिला। तो उनसे मोबाइल से भी संपर्क नहीं हो सका।

Kushinagar News ये घटना की जानकारी होते ही वहा पहुंचे डीएम

कुशीनगर में जेट्रोफा का फल खाने से 24 बच्चों के बीमार होने की सूचना मिलते ही पहले एसडीएम सदर महात्मा सिंह जिला अस्पताल में पहुंचे और बच्चों की स्थिति देखने के बाद ही डीएम को सूचना दी। तो उसके बाद डीएम रमेश रंजन जिला अस्पताल पहुंचे तथा एक-एक कर सभी बच्चों से उनका हाल पूछा। तो डीएम ने बताया कि बच्चों की हालत अब ठीक है। बच्चों ने बताया है कि उनमें से एक बच्चे ने जेट्रोफा के फल को बादाम समझकर खा लिया था। उसे देखकर अन्य बच्चे भी उस फल को खा लिए थे, जिससे बीमार पड़ गए। फिलहाल सभी बच्चे अब ठीक हैं। तो इस मामले की जांच कराने का निर्देश दिया गया है। फिर उसके बाद कार्रवाई की जाएगी। इस दौरान एसडीएम सदर महात्मा सिंह, सीएमओ डॉ. सुरेश पटारिया और जिला अस्पताल के सीएमएस डॉ. एसके वर्मा भी वहाँ मौजूद थे।

बिना मान्यता के संचालित हो रहा था ये विद्यालय
तुर्कपट्टी महुअवा में संचालित लोटस पब्लिक स्कूल के जो 24 बच्चे बीमार हुए हैं, वह बिना मान्यता के संचालित हो रहा था। बीएसए डॉ. रामजियावन मौर्य ने बताया कि इस मामले में तमकुही की बीईओ अंकिता सिंह को तलब भी किया गया है।

उन्होंने बताया है कि यह विद्यालय मान्यता प्राप्त नहीं है। इसे बंद करने के लिए 27 जनवरी को नोटिस दिया गया था, लेकिन उसे बाद भी बंद नहीं किया गया। कुछ कमरों में बच्चों के बैग भी मिले हैं। उसे बच्चों के घर पर भेजवा दिया गया है। विद्यालय के प्रबंधक और प्रधानाचार्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की कार्रवाई भी की जा रही है।

दीपक ने बताया बादाम है, इसलिए खा लिए हम सब.ने ..
कुशीनगर में जेट्रोफा का फल खाने से जिला अस्पताल में भर्ती भी कराए गए लोटस पब्लिक स्कूल तुर्कपट्टी महुअवा के छात्र धर्मेंद्र शर्मा, आर्यन प्रजापति, भीम यादव, अंश पटेल, ऋषभ, लवचंद गुप्ता और गौरव पटेल ने यह बताया कि लंच हुआ था। तो सभी बच्चे विद्यालय में खेल रहे थे। तभी दीपक एक फल खाते हुए आया और बताया कि यह बादाम है। उसे देखकर हम लोग भी वह फल लाकर खा लिए, जिसके बाद पेट में दर्द, चक्कर आने के साथ ही उल्टी भी होने लगी।

कुशीनगर में जेट्रोफा का फल खाने से ये बच्चे कराए गए भर्ती

तुर्कपट्टी महुअवा निवासी अर्पिता पुत्री कृष्णा, अमन पुत्र भोला, अमन पुत्र उमाशंकर, आयुष पुत्र अनुज श्रीवास्तव, अमन पुत्र चंद्रभान, नंदनी पुत्री जितेंद्र, अरुण पुत्र उमेश, ऋषभ पुत्र दीपक, लवचंद्र पुत्र बैकुंठ, निशु पुत्री सुभाष, शुभम पुत्र उमेश, आदर्श पुत्र रमेश यादव, अर्पित पुत्र राजेश, यश पुत्र विनय पटेल, प्रीतम पुत्र बृजेश, दीपक पुत्र उमेश, अंश पटेल पुत्र विनय, भीम पुत्र रुदल, आर्यन पुत्र रामप्रवेश, धर्मेंद्र पुत्र इंद्रजीत, शालू पुत्री राजेंद्र, नंदनी पुत्री गोविंद, गौरव पुत्र विजय और अमित पुत्र टुनटुन को जिला अस्पताल में भर्ती भी कराया गया।

Resource: https://bit.ly/3wWzP39

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here