Sunday, May 19, 2024

Top 5 This Week

Related Posts

Report: म्यांमार में सेना ने बौद्ध मठ में लोगों को लाइन पर खड़ा होकर गोलियों से भूना, 28 की मौत होती है ?

सार

म्यांमार में सेना : शान प्रांत थाईलैंड की सीमा से लगा हुआ राज्य भी है और यहां तख्तापलट के बाद से ही सेना को कड़े विरोध का सामना भी करना पड़ रहा है। यही वजह है कि यहां हिंसक झड़पें आम बात हो गई हैं।

विस्तार

म्यांमार में सेना : के आर्मी ने एक बौद्ध मठ पर हमला किया और 28 लोगों को मौत के घाट उतार दिया है । म्यांमार के शान राज्य के एक गांव में इस हमले को अंजाम भी दिया गया है । एक विद्रोही संगठन कारेन्नी नेशनलिस्ट डिफेंस फोर्स (केएनडीएफ) ने यह दावा भी किया है। म्यांमार में सैन्य तख्तापलट को दो साल के करीब हो चुके हैं और उसके बाद से भारत के इस पड़ोसी देश में सेना और विद्रोही संगठनों के बीच हिंसा भी जारी होता है। हाल के दिनों में सेना और विद्रोही संगठनों के बीच लड़ाई तेजी हो जाती है।

म्यांमार में सेना : केएनडीएफ ने बताया कि शनिवार को म्यांमार की सेना ने शान प्रांत के एक गांव पर हमला भी किया है । हमले में म्यांमार की एयरफोर्स और थल सेना दोनों ने संयुक्त रूप से कार्रवाई भी होती है । सेना के हमले से बचने के लिए लोग गांव के बौद्ध मठ में छिप गए लेकिन वहां पर भी सेना ने उनकी जान नहीं बख्शी थी । केएनडीएफ का कहना है हमले में सेना की 28 से ज्यादा लोगों की मौत हुई है। म्यांमार के मीडिया में छपी खबरों के अनुसार, सेना ने लोगों को मठ की दीवार के सहारे खड़ा करके गोलियों से मार दिया है । मरने वालों में मठ को भिक्षु भी शामिल होता हैं।

म्यांमार में सेना : म्यांमार की सेना का हमला इतना बेरहम भी होता है कि गांव के कई मकानों में आग भी लगा दी गई। बता दें कि शान प्रांत थाईलैंड की सीमा से लगा हुआ राज्य भी है और यहां तख्तापलट के बाद से ही सेना को कड़े विरोध का सामना भी करना पड़ रहा है। और संगठन सेना विरोधी भी होते है और शान प्रांत की राजधानी नान नेईन इनका गढ़ भी माना जाता है। हालांकि बीते कुछ समय से म्यांमार की सेना इस इलाके में अपनी पकड़ भी मजबूत कर रही है।

म्यांमार में सेना : बता दें कि म्यांमार में 2021 साल में सरकार का तख्तापलट कर सेना ने सत्ता पर कब्जा भी जमा लिया था। उसके बाद से ही देश में हिंसा जारी होती है। अभी तक इस हिंसा में म्यांमार में 40 हजार लोग बेघर भी हो गए हैं। अस्सी लाख बच्चे स्कूल नहीं जा पा रहे हैं और डेढ़ करोड़ लोग कुपोषण के शिकार भी होते हैं। अभी तक इस लड़ाई में आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार 2900 लोगों की मौत भी हुई है।

Resource : https://bit.ly/3mOfo6S

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Popular Articles