1.9 C
London
Saturday, February 24, 2024

Supari Ki Kheti In Hindi : सुपारी की खेती कैसे करें? यहां जानें

- Advertisement -
- Advertisement -

Supari Ki Kheti (betel nut farming in hindi): विश्व में सुपारी का (Betel) उत्पादन में भारत का प्रथम स्थान है। आंकड़ों के मुताबिक पूरी दुनिया में लगभग 925 हजार हेक्टेयर में सुपारी की खेती (supari ki kheti)की जाती है, जिसमें 50 प्रतिशत उत्पादन अकेले भारत में किया जाता है।

आपको बता दें, सुपारी (Betel) के पेड़ नारियल की तरह होता है 50 से 60 फीट तक कि उचाई होते हैं, जो लगभग 5-6 सालों में फल देना शुरू कर देता हैं। सुपारी का इस्तेमाल पान, गुटखा मसाला के रूप में भी किया जाता है। इसके साथ ही हिंदू मान्यताओं के अनुसार सुपारी का इस्तेमाल धार्मिक कार्यों में भी किया जाता है।

सुपारी कि खेती (Betel) में कई औषधीय वाले गुण भी पाए जाते हैं, जो कई बीमारियों में रोकथाम एवं इलाज में मददगार सिद्ध हुवे है । मांग अधिक होने के कारण एवं अपने गुणों के सुपारी की खेती (supari ki kheti) किसानों के लिए काफी फायदेमंद होती है ।

तो आइए, ताजा खबर ऑनलाइन के इस लेख में सुपारी की खेती (supari ki kheti in hindi) की संपूर्ण जानकारी जानते है

सुपारी की खेती के लिए जलवायु और मिट्टी

भारत में सुपारी की खेती समुद्र तटीय इलाकों में की जाती है। भारत में असम, पश्चिम बंगाल, केरल और कर्नाटक में खूब इसकीखेती होती है। इसकी खेती के लिए गर्म जलवायु काफी उपयुक्त माना जाता है । इसके लिए 25 से 35 डिग्री सेंटीग्रेड का तापमान काफी अच्छा कहा जाता है।

सुपारी की खेती (supari ki kheti) कई प्रकार की मिट्टी में किया जा सकता है। लेकिन जैविक पदार्थों से भरपूर लाल मिट्टी, चिकनी दोमट मिट्टी सुपारी की खेती के लिए फायदेमंद होता है। मिट्टी का पी.एच. मान 7 से 8 के बीच होना चाहिए।

सुपारी की खेती के लिए उपयुक्त समय

गर्मियों में पौधों को मई से जुलाई के मध्य लगाना चाहिए।

सर्दियों में बुवाई का उचित समय सितंबर से अक्टूबर तक का होता है

खेत की तैयारी

खेत की सफाई कर खेत की अच्छी तरह से जुताई करता है

इसके बाद खेत में पानी लगाकर सूखने के लिए छोड़ देते है

पानी सूखने पर रोटावेटर के द्वारा खेत की अच्छी तरह जुताई करवाते है

पहटा लगा कर खेत को समतल करें।

पौधों की रोपाई के लिए 90 सेंटीमीटर लंबाई, 90 सेंटीमीटर चौड़ाई और 90 सेंटीमीटर गहराई के गड्ढे तैयार करते है

गड्ढों की आपस में दूरी 2.5 से 3 मीटर तक रखना चाहिए

ये तो थी, सुपारी की खेती (supari ki kheti in hindi) की बातें यदि आप इसी तरह कृषि, मशीनीकरण, सरकारी योजना, बिजनेस आइडिया और ग्रामीण विकास की जानकारी चाहते हैं तो इस वेबसाइट की अन्य लेख जरूर पढ़ें और दूसरों को भी पढ़ने के लिए शेयर करें

Resource : https://bit.ly/3G7dJ1W

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here